Waafaq Nagari Ki Jankari Ke Liye Fakir Se Shahjade Ki Mulakat ! Gul Ne Sanobar Ke Sath Kya Kiya Part 5

0
150

प्रिय पाठक, स्वागत है आपका आज की Waafaaq Nagari Ki Jankari Ke Liye Fakir Se Shahjade Ki Mulakat पोस्ट पर. गुल ने सनोबर के साथ क्या किया पार्ट 4 के बाद हम जानते है आप गुल ने सनोबर के साथ क्या किया पार्ट 5 की हिंदी कहानी का बेहद बेसब्री से इंतजार कर रहे है.

Waafaaq Shahar Gul Ne Sanobar Ke Sath Kya Kiya Part 5 Suspense Hindi Story

तो चलिए आपकी बेसब्री को ख़त्म करते हुए शुरुवात करते है मजेदार हिंदी की कहानिया की बेहतरीन Hindi Suspense Story गुल ने सनोबर के साथ क्या किया पार्ट 5.

> Read – Karamati Kabootar, Shikari Aur Murkh Badshaha Ki Majedar Kahani.

Waafaaq नगरी की तरफ.

बहुत दिन के सफ़र के बाद Waafaaq शहर की तरफ निकला शहजादा एक बहुत बड़े मैदान मे आ पंहुचा. अब शाम भी हो रही थी और शीतल ठंडी हवा भी बहने लगी थी. उस मैदान के किनारे पर एक भव्य और बहुत बड़ी मस्जिद भी दिखाई दे रही थी.

नमाज पढने का भी समय हो चूका था, तो शहजाडा घोड़े से निचे उतरा और पास ही में छोटीसा पानी का तालाब था उसमे हात-पांव भी धो लिए. घोड़े को वही एक पेड़ से बांधकर वह नमाज पढ़ने के लिए मस्जिद की और चल पड़ा.

शहजादे ने नमाज पड़ने का पवित्र कपड़ा जमीन पर बिछाया और घुटने टेककर उसने एकमन से नमाज की प्रक्रिया पूरी की. नमाज पढ़ते ही वह मस्जिद के एक कोने मे बैठकर चिंताग्रस्त होकर सोचने लगा की यह Waafaaq शहर आखिर होगा किधर.

वह वैसेही सोचते हुए बैठा था की उसके कानो पर कुछ आवाज सुनाई दी. ‘बेटे’ तुम इतनी टेंशन मे क्यों बैठे हो? क्या कोई परेशानी सता रही है तुम्हे? शहजादे ने आश्चर्य से पीठ पीछे देखा तो एक तेज पुंज फ़क़ीर वहा पर खड़ा था.

उसने रेशमी कपडे पहने हुए थे. उसकी सफ़ेद दाढ़ी छाती तक आ रही थी. उसको देखते ही शहजादा झट से खड़ा हुवा और देखता रहा.

मेरा नाम अल्माशरूह्बक्ष होकर मै सुलैमाबाद नगर का राजपुत्र हु. इतना कहकर उसने अपनी पूरी हकीकत फकीर के सामने बया की. और वह आगे आकर बोला ‘ये Waafaaq शहर किधर है क्या आपको कुछ पता है? अगर आपको मालूम हो तो कृपा करके मुझे बताये मै आपका बेहद शुक्रगुजार रहूँगा.

> Read – Chatur Khargosh Lambkarn Aur Darpok Hathi ChaturDatt Ki Behatareen Hindi Kahani.

वाफाक नगर का रास्ता.

‘बेटा’ वह Waafaaq शहर यहासे पश्चिम दिशा की और बहुत दूर है! रास्ते मे सात समंदर फैले हुए है. तब उस शहर जाना मतलब मौत को बुलावा देने के समान है. लेकिन तुमने वहा जानेका पक्का कर लिया हो तो मै तुम्हे मार्ग बताता हु.

यहाँ से पश्चिम के और चलते हुए जाने पर रास्ते मे दो और रास्ते मिलेंगे. उसमे बिच मे तुम्हे एक मिनारा दिखाई देगा. उसपर कुछ लिखा होगा उसके हिसाब से तुम आगे चलते रहना!.. मै तुम्हे आशीर्वाद देता हु की तुम्हारे कार्य मे तुम जरुर सफल होंगे.

फ़क़ीर के उस मार्गदर्शन से शहजादे ने उन्हें अभिनन्दन किया. रात को वही रुकने के बाद सुबह भगवान /अल्लाह का नाम लेकर वह पश्चिम दिशा की और Waafaaq शहर के लिए निकल पड़ा.

बहुत दूर चलने के बाद रास्ते मे दो फुट पड़े हुए रास्ते थे वहा पर शहजादा आ पंहुचा. दोनों रास्तो के बिच मे एक लाल रंग के संगमरवरी पत्थर का मनोरा था. उसपर बहुत बड़ा शिलालेख लिखा हुवा था.

उसमे लिखा था की यह दोनों प्रसिद्द रास्ते Waafaaq नगर की तरफ जाते है. इसमें से बाही तरफ का रास्ता बहुत दूर का है, इस रास्ते से जाने पर वाफाक शहर पहुचने के लिए काफी साल लगेंगे और इस रास्ते मे कोई संकट नही आएगा.

और दाही तरफ लिखा हुवा था यह रास्ता बहुत ही पास है इस रास्ते से जानेपर Waafaaq शहर मे बहुत जल्दी जा सकते है लेकिन इस रस्ते से जानेवाले को हर पल मायावी शक्तियों से और संकटो से सामना करना होगा. लेकिन यहाँ से जो सुरक्षित निकल जायेगा वह अवश्य ही वाफाक पहुच जायेगा.

कहानी का अंत.

वह शिलालेख पढ़कर शहजादे दे थोड़ी देर के लिए सोचा और भगवान का स्मरण करके ना डरते हुए दाहे रास्ते से निकल पड़ा. बहुत दूर चलने पर उसे एक बहुत सुन्दर और बेहद बड़ा प्रदेश दिखाई दिया उसमे एक उपवन भी था.अनेको प्रकार के फल-फुल और पेड़ थे, बहुत से पंछी और सुन्दर प्राणी वहा पर घूम रहे थे.

उसी उपवन मे सुन्दर, सोनेरी महल सूरज की किरणों मे और भी अधिक आकर्षक लगा रहा था. पूरा महल जैसे आनंददायी लग रहा था. शहजादे ने सोचा इस महल मे जो कोई रहता होगा. उसके पास थोड़ी देर के लिए विश्राम कर लू फिर आगे के रास्ते पर निकालू इस तरह सोचते हुए वह महल की तरफ बड़ा.

लेकिन बेचारे शहजादे को कहा पता था की वह सोनेरी महल उसके लिए कितना बड़ा संकट का पहलू बनने वाला है. इसी की साथ यह पर Waafaaq शहर की तलाश कहानी का अंत होता है. जल्द ही इसका अगला पार्ट ६ पब्लिश कर दिया जायेगा.

> Read – गुल ने सनोबर के साथ क्या किया चमत्कारी सवाल – अनसुलझी रोचक हिंदी कहानी.
>जरुर पढ़े- राजकन्या मेहेरअंगेज का चमत्कारिक सवाल- गुल ने सनोबर के साथ क्या किया पार्ट 2.
> अवश्य देखे – Rajkanya Meherangej Se Badla- Gool Ne Sanobar Ke Sath Kya Kiya Part 3.
> Read – Gul Ne Sanobar Ke Sath Kya Kiya Part 4- Best Suspense Hindi Story.

इसप्रकार से Waafaaq शहर की और गुल ने सनोबर के साथ क्या किया पार्ट ५ ख़त्म हुवा, यहाँ पर आगे की पार्ट ६ की हिंदी कहानी पब्लिश कर दी गयी है जरुर पढ़े. अगली हिंदी की कहानी के लिए ब्लॉग को सब्सक्राइब करे. आशा करते है यह हिंदी स्टोरी आपको जरुर पसंद आयी होगी अगर आपको हमारे ब्लॉग की मजेदार हिंदी की कहानिया पसंद आ रही हो तो सोशल मीडिया मे जरुर शेयर करे.

***

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here