Mutual Fund क्या है? म्यूच्यूअल फण्ड कैसे कार्य करता है? Indian Mutual Funds History in Hindi.

प्रिय पाठक, स्वागत है आपका आज की पोस्ट Mutual Fund क्या है? MutualFundIndia मे कैसे कार्य करता है इस पोस्ट पर. हररोज आप TV, Internet, Newspapers वगैरा मे Share Market की जानकारी पढ़ते होंगे, देखते होंगे. सही जानकारी और Planning होने से आपको Share Bazar से पैसा कैसे कमाए यह जानकारी नही सताती. आप शेयर बाज़ार से भरपूर पैसा कमा सकते है. Stock Market बहुतसे लोगो के मन मे घर कर जाता है, उनके मन को छू जाता है.Mutual Fund Kya Hai, Mutual Fund Investment

इसीलिए हर किसी को शेयर मार्किट मे पैसा लगाये एसा लगता है लेकिन एक तो उनके पास समय नही होता और दूसरा शेयर बाज़ार के बारे Technical Analysis और Fundamental Analysis करना New Invester को Possible नही होता. इसी के साथ ज्यादा लोग Share Bazar मे एक साथ पैसा नही लगा सकते.

> Read – शेयर बाज़ार की जानकारी. शेयर मार्किट से जुडी जरुरी जानकारी Investor के लिए फायदेमंद है.

इस प्रकार के Inversers के लिए Mutual Fund Concept का निर्माण हुवा. क्या आप जानते है म्यूचुअल फंड क्या है? क्या आप जानते है Best Mutual Funds कौनसे है? अगर नही तो आज के आर्टिकल मे आप म्यूच्यूअल फंड्स के बारे मे विस्तार से जानकारी पा सकते है. इससे पहले भी हमने शेयर बाज़ार के बारे मे कई आर्टिकल पब्लिश किये है जिन्हें आपको अवश्य जानना चाहिए.

Mutual Fund Kya Hai? Mutual Funds In Hindi.

म्यूच्यूअल फण्ड याने एक एसी Organization जो इन्वेस्टर्स के पास से थोड़े थोड़े पैसे जमा करती है. और बड़े पैमाने पर जमा हुवा पैसा यह संस्था अच्छी कंपनियों के Shares मे Invest करती है. यह इन्वेस्टमेंट बेहद बड़ी मतलब करोडो मे की जाती है याने मार्किट कम होने पर या उस Particular Shares की कीमत कम रहने पर ख़रीदा जाता है और उसमे १५ से २०% कीमत बढ़ने पर बेचा जाता है.

Mutual Fund एक पेशेवर रूप से एक Proffessional Investment Scheme है जो आमतौर पर एक ऊपर बताये अनुसार Assest Management Company के द्वारा चलाया जाता है जो लोगों के Group को एक साथ लाता है और Stock, Mutual Bond और अन्य Securities में अपने पैसो का निवेश करता है. बस इसी को म्यूच्यूअल फंड्स कहा जाता है.

खरीद बिक्री वॉल्यूम का फायदा भी खूब होता है. इसका वितरण यूनिट के रूप मे इन्वेस्टर्स को किया जाता है. यही उनका Profit होता है. लेकिन यह Divident जैसा नही चुकाया जाता बल्कि वह Reinvest किया जाता है. ध्यान रहे हमेशा Good Mutual Fund Companies की खोज के लिए जानकार व्यक्ति का होना बेहद आवश्यक होता है.

इंग्लैंड मे इन Organizatios को Unit Trust और US मे Mutual Fund कहा जाता है. India मे पहली बार Unit Trust Of India (UTI Act) के अंडर आकाश बहल की अध्यक्षता मे स्थापित किया गया था. ३० दिसंबर १९६३ को Parliament ने UTI को मंजूरी दी. Unit 64 इस नाम का Mutual Fund भारत मे सबसे पहले शुरु किया गया था. Stoke Market मे 1987 तक म्यूचुअल फंड्स की संख्या अस्तित्व में थी.

Mutual Fund कैसे काम करता है?

आपने इन्वेस्ट किया हुवा पैसा Mutual Fund Expert की मदत से बड़ी-बड़ी कंपनियों मे लगाया जाता है एसा लक्ष रखनेवाले बहुतसे निवेशक होते है. ऊपर बताये अनुसार आपने किये हुये निवेश के बदले आपको Units दिए जाते है. यह निवेश रूपया याने उस दिन की Investment value होती है. इसे इन्वेस्टमेंट वैल्यू को Net asset Value (NAV) के नाम से भी जाना जाता है. 

फिर इन पैसो को Mutual Fund Manager Shares, Debechars, Money Market जैसे अलग-अलग Securities मे निवेश करते है. इसी निवेश को Copars (कॉपर्स) भी कहा जाता है. रोज Share Market के बंद होने के साथ Investment Valuation किया जाता है और हर यूनिट का दर Net Asset Vallue प्रदर्शित की जाती है. इस प्रकार से Mutual Fund Performance को देखते हुए आपको कम पैसो मे बड़ी-बड़ी कंपनियों के Partial partnership प्रदना करती है.

हर Mutual Fund House उसके Fund Management के लिए बहुतसे फण्ड मेनेजर्स और उनकी सहायता करनेवाली Research Team, Comercial Experts इनकी नेमनुक करते है. जो आपकी मेहनत का पैसा Fast बढ़ाने के लिए हमेशा Economic market पर नजर गडाए रहते है.

यह Various Sectors और कंपनियों की Market, Trends और बाज़ार भाव इन सबका बारीकी से संशोधन करते है. आपके Research Report से जुड़े Scheme Fund Manager को प्रदर्शित करते है उसके बाद फण्ड मेनेजर उन सब की Comparative study करते है. इन Commercial Experts की वजह से निवेश करने का सही Decision ले सकते है.

> Read – Share Market क्या है? Share Bazar बेहद काम की जानकारी हर किसी को पढ़नी चाहिए.

यही काम अगर आप अकेले करने की सोचेंगे तो आप यह नही कर सकते और शेयर मार्किट की हमेशा के उतार चढ़ाव पर निरंतर नजर रखना आपके लिए कठिन हो जायेगा. इसी जानकारी के कमी के कारन कई निवेशको को नुकसान भी उठाना पढ़ता है. और इसी के साथ इसी वर्ग के द्वारा बनता है Stock Market को बदनाम करनेवाला वर्ग.

यह भी उतना ही सच है की Mutual Fund Investers को कम से कम तीन साल रुकना चाहिए याने म्यूच्यूअल फंड निवेश ज्यादा समय की होनी चाहिए. निवेशको द्वारा 1,000/-, 5,000/- या 1,00,000/- भी निवेश किया फिर भी फण्ड मेनेजर्स और उनको सहायता करने वाली रिसर्च टीम और कमर्शियल एक्सपर्ट थोड़ी थोड़ी अमाउंट अलग-अलग कम्पनियों के शेयर्स मे लगाती है जिससे आपकी मेहनत के पुरे पैसो की Care की जाती है.

फण्ड मनेजर्स बहुत एक्सपर्ट होने के करना उनके पास जानकारी का खजिना होता है इसा कहने में भी कोई बुराई नही है. उसी के आधार पर Revision, analysis किया जाता है. उल्टा General Invester को इस जानकारी का अभाव होता है. Share Market मे किसी एक न्यूज़ के कारण शेयर्स की कीमत बढ़ने लगती है. लेकिन यह न्यूज़ सही है या सिर्फ कोई अफवा इसकी जानकारी फण्ड मेनेजर को तुरंत लग जाती है. लेकिन बाकि निवेशको को यह समजने की जानकारी या चलाखी नही होती.

इन सभी धोके को देखते हुए नए निवेशको दवारा सीधे Share Bazar मे जाते हुए पहले Mutual Fund Invest करे और एक बार Experience आ जाये की Direct Stock Market मे Entry करे. अगर आप एसा करते है तो भविष्य मे Mutual Fund Ratings को देखते हुए निवेश करते जाए.Mutual Fund Kya Hai, Mutual Fund Kaise Kaam Karata hai

Indian Mutual Fund History In Hindi.

भारत मे Mutual Fund कैसे निर्माण हुवा इसके बारे मे आपने ऊपर भी पढ़ा होगा. लेकिन और ज्यादा जानकारी के लिए आप निचे दिए गए पॉइंट्स को भी पढ़े जो आपको शेयर बाजार मे बढ़ने मे मदत करेगी.

  1. Unit Trust Of India जिसे UTI भी कहा जाता है यह First Mutual Fund बाजार मे सन 1964 मे स्थापित की गयी.
  2. Asset Under Management जिसे AUM कहा जाता है इनके द्वारा 6700 करोड़ रुपये Mutual Funds मे निवेश किये.
  3. SEBI द्वारा म्यूच्यूअल फण्ड के बारे मे साल 1996 मे सक्त नियम बनाये गए.
  4. Bank, LIC, GIC, इन्होने नए आठ अलग-अलग 167 Mutual Fund Schemes मार्किट मे शुरू की.
  5. Asset Under Management (AUM) इन्होने सन 1993 मे म्यूच्यूअल फंड्स मे टोटल 61,000/- करोड़ रुपये निवेश किये. तथा इसमें Private और Foregn Participation बढाया. इतना ही नही कोटारी पायोनियर मोटा जैसे Emerging Markets Mutual Funds को लाये.
  6. AUM द्वारा 2017 तक रुपये 15,00,000/- करोड़ रुपये से भी ज्यादा म्यूच्यूअल फण्ड मे निवेश किया है.
  7. भारत मे 45 प्रकार के म्यूच्यूअल फंड्स काम कर रहे है.

क्या आप जानते है NAV Calculate कैसे किया जाता है?

क्या आप जानते है Net Asset Value Calculate कैसे किया जाता है? अगर नही तो आपको यह भी जान लेना चाहिए Mutual Fund Rates और Schemes मे इसका बेहद महत्त्व होता है. इसका सूत्र निचे दिया गया है.

  • Net Asset Value=Total Assets-Intangible Assets-Total Liabilities.

पर शेयर NAV को भी बेहद महत्त्व होता है. वह भी निचे दिए गए अनुसार Calculate किया जाता है उसे भी आपको समज लेना चाहिए.

  • Net Asset Value Per Share = NAV /Total Outstanding Shares.

> Read – Demat Account Kya है? डीमेट अकाउंट किसे कहते है? Best Trading Accounts.

अगर आप Mutual Fund Types कौनसे है? Mutual Fund Investment किस तरह से कर सकते है है यह जाना चाहते है तो जल्दी से ब्लॉग को सब्सक्राइब करले. हर तरह की शेयर बाजार से जुडी जानकारी आपको ईमेल के द्वारा मिलती रहेगी.

इस प्रकार से अब आप जान गए होंगे की Mutal Fund किसे कहते है? म्यूच्यूअल फण्ड काम कैसे करता है? आशा करते है आपको Stock Market Trading से जुडी म्यूच्यूअल फंड्स की जानकारी पसंद आयी होगी. International Mutual Funds हो या उनके प्रकार हर तरह की जानकारी आपको इस ब्लॉग पर मिलेगी. तो चलिए अब एक शेयर सोशल मीडिया मे भी करे जिससे साधारण निवेशको को जरुरी जानकारी का फायदा हो सके.

**************************

अमेजिंग ! धन्यवाद आपको यह पोस्ट पसंद आयी!

HindiMePadhe.com वेबसाइट को इतना प्यार देने के लिए आपका दिल से शुक्रिया. एसीही Blogging, Education, EPFO, Hindi Story और Banking सेक्टर से जुडी हर नयी पोस्ट के अपडेट आपके ईमेल इनबॉक्स मे पाने के लिए ब्लॉग को यहा से फ्री मे सब्सक्राइब करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *