वर्डप्रेस वेबसाइट के लिए Child Theme कैसे बनाते Without Plugin.

9
41

एक अद्वितीय पोस्ट WordPress Child Theme Kaise Banaye और इसके फायदे और नुकसान क्या है इस पोस्ट को आपको जरुर पढ़ना चाहिए because अगर आप ब्लॉगर है तो आप वर्डप्रेस चाइल्ड थीम के बारे में अवश्य जानते होंगे इसमें कोई दोहराई नहीं है। लेकिन अगर आप नए ब्लॉगर है और आप Beginner है तो आपको अवश्य इसके बारे में जानना चाहिए।

Child Theme Kaise Banaye Ultimate Guide Step By Step HindiMePadhe
Child Theme Kaise Banaye Ultimate Guide Step By Step

वर्डप्रेस में किस तरह चाइल्ड थीम का निर्माण किया जाता है? WordPress child theme स्थापित करना क्यो जरुरी है यह तो आपको इस्तेमाल करने के साथ पता चल ही जायेगा. क्या होती है Child Theme?  क्या होती है parent theme? क्या फर्क होता है चाइल्ड थीम और Parent Theme में? क्यों इस्तेमाल करते है चाइल्ड थीम?  कैसे installed करते है चाइल्ड थीम?

अगर आप इन्ही सवालो का जवाब खोज रहे है तथा चाइल्ड थीम के बारे में नहीं जानते या काफी कम जानते है। या ज्यादा जानकारी के लिए Search कर रहे है तो आप बिलकुल सही पोस्ट पढ़ रहे है। आप इस पोस्ट से काफी कुछ जान सकते है चाइल्ड थीम के बारे में।

आगे की जानकारी में विस्तार से जाने WordPress ब्लॉग पर WordPress child theme क्या होती है और उसकी parent theme क्या होती है।

Child Theme Kya Hai?

दोस्तों Child Theme का मतलब ही उसके नाम में छुपा हुवा है,  किसी भी बात को अगर आसान शब्दो में बताया जाये तो उसका मतलब समझने में आसानी होती है। चाइल्ड थीम क्या होती है इसे आसान शब्द में कहे तो अगर आपने वेबसाइट के लिए कोई parent theme (WordPress theme) का इस्तेमाल किया है तो उसी parent theme का clone जिसे आप duplicate theme भी कह सकते है उसका निर्माण (installation) करते है तो उसे चाइल्ड थीम कहते है।

WordPress में Wp child theme create करने के रास्ते एक से ज्यादा है. कोई plugins का इस्तेमाल करके चाइल्ड थीम create करते है तो कोई अपनी parent wordpress themes को बिना प्लगइन के ही उसकी चाइल्ड थीम मे convert कर लेते है।

यह एक एसा बेहतरीन तरीका है जिससे आपकी parent wordpress themes के कोड को बिना छुए ही अच्छी design कर सकते है। एक चाइल्ड थीम अपने पेरेंट थीम से अलग होती है। इसे without plugin installation करने के लिए style.css और functions.php मे शामिल करना होता है।

जब कभी आपके website को कोई visitor विजिट करेगा तो वह पहले आपके चाइल्ड थीम पर ही design look को देखेगा। मतलब आपके wp पैरेंट थीम से पहले चाइल्ड थीम पर ब्लॉग load होगा जिससे site performance पर positive असर पढ़ता है।

इसके परिणामस्वरूप, आपकी background coding का अधिकांश हिस्सा बाद मे load होता है जो child theme से मेल नहीं खाता हो, लेकिन इसके लिए सही wordpress child theme create होनी चाहिए।

> जरुर पढ़े – Sitemap Kaise Banaye Aur Google Me Kaise Submit Kare.

WordPress Parent Theme Kya Hai?

जैसा की हमने ऊपर बताया है किसी original theme का duplicate version child theme होता है तो जो ओरिजिनल थीम होती है उसे पैरेंट थीम कहते है। ज्यादातर Genesis frameworks इसका इस्तेमाल करते है जिसके लिए यह popular themes मे से एक है।

WordPress एक open source project है जिस पर हजारों ब्लॉग free of cost बिना किसी शुल्क को चुकाये बिना चल रहे है। WordPress बिलकुल आसान CMS (content management system) है जो की पूरी तरह php framework पर चलने वाला प्लेटफार्म है।

इसीलिए इसमें सारी settings बहुतही सरल तथा user friendly होती है। WordPress theme का मतलब है कि वेबसाइट के लिए Layout/Design (Look) होता है जिसे पूरी दुनिया में दिखाने का काम internet करता है उसे ही Parent theme कहा जाता है।

चाइल्ड थीम और पैरेंट थीम मे फर्क क्या है? 

इस सवाल को सबसे पहले जानना जरुरी है क्योकि बिना इस जानकारी के आप चाइल्ड थीम पर काम नहीं कर सकते। Child Theme ही पैरेंट थीम की क्लोन थीम होती है।Parent theme में और other theme में कोई फर्क नहीं है।

आपकी पैरेंट थीम भी बाकी सभी थीम्स की तरह ही वर्क करता है जिसमे उस थीम में दिए गए सारे बदलाव आप बाकि other थीम्स की तरह कर सकते है।

लेकिन बिना पैरेंट थीम के आप चाइल्ड थीम में कोई बदलाव नहीं कर सकते। चाइल्ड थीम के पहले आपको उसकी पैरेंट थीम का निर्माण करना होता है उसके बाद ही चाइल्ड थीम का इस्तेमाल होता है।

यह पैरेंट थीम पर बिना किसी प्रकार के बदलाव किये बिना आप चाइल्ड थीम में बहुत सारे बदलाव कर सकते है जो आपको अपनी पैरेंट थीम में नहीं मिलता। किसी भी original थीम को edit करने के लिए वर्डप्रेस चाइल्ड थीम का इस्तेमाल करना सबसे सुरक्षित और secure तरीको मे से एक माना जाता है।

जब भी कोई नया themes updates प्राप्त होता है तो वह आसानी से update हो जाता है और आपके द्वारा किये गए परिवर्तन removed नहीं होते। चाइल्ड थीम का उपयोग करने का एक अन्य लाभ यह है कि अगर आपका child theme modification मे कोई समस्या पैदा करता है तो आप जब चाहे तब उसे delete करके फिर से स्थापित कर सकते है।

child theme का क्या कभी भी आप बना सकते है लेकिन parent theme मे की गयी छेड़खानी फिर से मूल जगह लाना संभव नहीं हो पाता।

> Read – Free Website Kaise Banaye-Free Blog Kaise Banaye.

WordPress Me Child Theme Kaise Banate Hai?

अब ऊपर दी गयी जानकारी से आप समज गए होंगे की क्या है चाइल्ड थीम, क्या है पैरेंट थीम, क्या फर्क है पैरेंट थीम और चाइल्ड थीम में। अब WordPress में child theme का निर्माण (Installation) कैसे करे इस बारे में स्टेप बाय स्टेप Procedure को फॉलो करे।

इसमें Child Theme का निर्माण WordPress website पर निचे दिए गए दो तरीको से कर सकते है.

  1. WordPress child theme creator plugin (Child Themify) का इस्तेमाल करके।
  2. होस्टिंग के C panel मे Login करके चाइल्ड थीम का फोल्डर बनाकर।

चाइल्ड थीम का निर्माण करने की दोनों विधि आप इस पोस्ट में विस्तार से जान सकते है लेकिन ज्यादातर ब्लॉगर जिसमे नए ब्लोगर्स हमेशा आसान तरीका ही इस्तेमाल करना चाहते है क्योकि बिना किसी परेशानी के आसान तरीके से चाइल्ड थीम का निर्माण कर सके।

अगर आसान तरीके की बात है तो सबसे आसान तरीका है चाइल्ड थीम बनाने का WordPress plugin Child Themify। इसके द्वारा बहुतही आसानी से आप चाइल्ड थीम इनस्टॉल कर सकते है।

चाइल्ड थीम को instant install करे plugin के जरिये.

 चाइल्ड थीम install करने के लिए plugin Child Themify आपकी सहायता करेगा। इसके जरिये बिना किसी परेशानी के आपकी पैरेंट थीम का डुप्लीकेट वर्शन आप बना सकते है जिसे चाइल्ड theme कहते है.

Step 1.

  • WordPress के Dashboard पर क्लिक करे।
  • Plugins पर क्लिक करे।

Child Theme Kaise Banaye Ultimate Guide Step By Step HindiMePadhe

  • Add New पर क्लिक करे।

Step 2.

  1. Search में Child Themify लिखे और सर्च करे।
  2. Install Now पर click करे।Child Theme Kaise Banaye Ultimate Guide Step By Step HindiMePadhe
  3. Child Themify plugin को Activate करे।

Step 3.

  1. अब आप Appearance-Theme पर जाए।
  2. अपनी install थीम के Themes Details पर क्लिक करे। और उसकी ठीक Right Side में Create Child Theme पर क्लिक करे।
  3. Child theme का नाम लिखे (उदाहरण के लिए अगर आप Genesis थीम का इस्तेमाल करते है तो  This is a genesis child theme लिखे आप कुछ भी लिख सकते है लेकिन मैं आपको यह तरीका suggest करना चाहूंगा)
  4. Child theme के installed होने के बाद उसे Activate करे।

इस तरह आपने अपनी parent theme के लिए Child Theme का successfully निर्माण कर लिया है अब आप सारे बदलाव इसमें कर सकते है।

C panel Se Login Karake Child Theme Kaise Bana Sakate Hai?

चाइल्ड थीम निर्माण करने का आसान तरीका ऊपर दी गयी जानकारी में दिया गया है। लेकिन अगर आप चाहते है कि बिना प्लगइन का इस्तेमाल किये बिना जिससे आपके ब्लॉग की स्पीड पर कोई फर्क पढ़े बिना चाइल्ड थीम का निर्माण (installation) किया जाये तो उसकी स्टेप बाय स्टेप जानकारी को फॉलो करे।

Step 1.

  1. आपके Hosting के C panel पर Login करे।
  2. File Manager पर क्लिक करे और फाइल मेनेजर जाये।
  3. WP content  पर क्लिक करे।
  4. Themes पर क्लिक करे।

Step 2.

  1. Themes फोल्डर में नया फोल्डर बनाये जिसके लिए New Folder पर क्लिक करे।
  2. Create New Folder ओपन होगा उसमे Theme का नया नाम रखे जैसे की ऊपर दी गयी जानकारी में हमने बताया है अगर आप Genesis थीम का इस्तेमाल करते है तो This is a genesis child theme एसा नाम रखे।
  3. आपने नयी फाइल को जो नाम दिया है समजिये अगर आपने Genesis child theme नाम रखा था तो उसे ओपन करे।
  4. उसमे फिर से दो नयी फाइल्स बनाये जो की निचे दी गयी है।> Style.css  > Functions.php
  5. दोनों फाइल के ठीक से Create हो जाने के बाद Style.css पे Right क्लिक करे और Edit पर जाके निचे दिए गए कोड को Copy करके उसमे Paste करदे।

अगर आप Child theme बनाते वक़्त फाईल साईज ज्यादा दिखाये तो आप यह दो फाईल इंटरनेट से भी download कर सकते है और अपलोड कर सकते है। इस बारे में गूगल पर सर्च करे जिस पैरेंट थीम की चाइल्ड थीम आप डाउनलोड करना चाहते है करले।

/*
Theme Name: genesis Child
Theme URI: http://yoursite.com
Description: genesis Child Theme
Author: Your Name 
Author URI: http://yoursite.com
Template: genesis
Version: 1.0.0
Text Domain: genesis-child
*/

तो इस तरह आपकी WordPress Child theme बन चुकी है अब functions.php मे निचे दिया गया code add करे। अब अंत मे Appearance-theme section में जाके child theme activate कर दे।

चाइल्ड थीम इस्तेमाल करने के फायदे?

दोस्तों क्यों चाइल्ड थीम का इस्तेमाल किया जाता है? कई सारे नए ब्लॉगर जो Beginner है उन्हें इसके बारे में जरूर पता होना चाहिए। चाइल्ड थीम इस्तेमाल करने से आप बहुत सारे बदलाव Coding से भी कर सकते है और आप बिलकुल भी नही चाहेंगे कि अगर कोई गलती हो जाये तो आपकी पैरेंट थीम का नुकसान हो।

चाइल्ड थीम में आप काफी कुछ ज्यादा (fully customize) बदलाव कर सकते है वो भी अपनी पैरेंट थीम में बिना कुछ बदलाव किये। जब WordPress की Original Parent Theme में कोई नया अपडेट आता है तो आपने जो भी वर्क अपनी पैरेंट थीम में किया होता है वह अपडेट के बाद नष्ट हो जाता है।

अगर आपने चाइल्ड थीम इनस्टॉल की है और उसी को आपने एक्टिव रख कर सारा काम किया है तो सारा अपडेट आपकी चाइल्ड थीम पर Save हो जायेगा वो भी पैरेंट थीम को बिना कोई हानी पहुचाये।

शॉर्टकट मे समजाये तो secure update करने के लिए आसान है,  चाइल्ड थीम विस्तार करने के लिए आगे बढ़ना काफी आसान है and फालबैक सेफ ऑप्शन के रूप में उपलब्ध होने के कारण सबसे लोकप्रिय है।

वर्डप्रेस चाइल्ड थीम use करने के नुकसान.

child theme का इस्तेमाल करने से पहले आपको उसे पूरी तरह से सिखाना पढ़ता है जिसमे काफी समय देना जरुरी होता है. इसमें समय नहीं देना चाहते तो एक बेहतर design पाने के लिए आपको चाइल्ड थीम ready खरीदना होगा जिसका मतलब पैसो की बर्बादी है।

वैसे child theme disadvantages कम ही देखे गए है परवर्डप्रेस थीम ओपन सोर्स होने के कारण accident भी हो सकते है। यदि कभी किसी coding को edit करते समय hook मे गड़बड़ हो जाए तो तो आपकी मेहनत पर पानी फिर सकता है।

> Read – फ्री मोबाइल रिचार्ज कैसे करे

अगर आपको ऊपर दी गयी चाइल्ड थीम की जानकारी पसंद आये हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा social media में share करे। child theme create करने में आपको कोई दिक्कते आती है तो आप निचे comment बॉक्स में कमेंट करे या सीधे हमारे admin@hindimepadhe.com पर संपर्क करे।

***

9 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here