हार्ड डिस्क क्या है पूरी जानकारी ! Types Of Hard Disk ! हार्ड डिस्क और Fixed Disk के प्रकार की जानकारी.

3
110

क्या होता है Hard Disk? किस काम आती है HDD Disk? हार्ड डिस्क के प्रकार कितने है? अगर आप एक Normal Computer User है जो अभी-अभी Computer Basic Details जानना चाहता है तो आपके लिए यह आर्टिकल बेहद जरुरी है. अगर आप A To Z Computer Information जानना चाहते है तो अभी इस वेबसाइट को बुकमार्क और सब्सक्राइब करे क्योकि यहा पर कंप्यूटर की जानकारी पर डेली आर्टिकल पब्लिश किये जाते है. 

What Is Hard Disk In Hindi ! Types Of Hard Disk Drives In Hindi
What Is Hard Disk In Hindi ! Types Of Hard Disk Drives In Hindi.

पता नहीं कब क्या हमारे साथ घटित हो जाये जो काफी दिन तक हमें याद रहता है. मै एक दिन युही मेरे मित्रो के साथ शाम के समय टहलने के लिय निकला था. खूब बाते हमारे बिच आज के कंप्यूटर युग के बारे मे हुयी की किस तरह सी साइंस Impossible को पॉसिबल मे बदल रहा है. साथ ही उसके नुकसान पर भी बाते हुए फिर Computer Parts और Internet Connection की बाते होने लगी.

तभी चलते-चलते ही मेरे एक दोस्त ने बिच मे ही रोकते हुए पूछ लिया भाई रुको यह हार्ड डिस्क क्या होता है? तभी मेरे दोस्त हसने लगे भाई तुझे इतनी सी बात नहीं मालूम और तुम तो कंप्यूटर हैंडल करते हो. तुम्हे पता होना चाहिए Computer Types के बारे मे, हार्ड डिस्क क्या है यह भी पता होना चाहिए साथ ही अन्य उपकरणों की भी जानकारी तुम्हे होनी चाहिए थी.

कुछ देर के लिए लगा की वह मजाक कर रहा है लेकिन सच मे उसे Computer Hard Disk के बारे मे जानकारी नहीं थी. तब हमें लगा की जरुरी नहीं है की एक ही समय पर सभी जानकारी एक सामान्य कंप्यूटर यूजर को हो जाये. मेरे मित्र के साथ भी यही हुवा Hard Disk Information उसे नहीं थी क्योकि तब तक उसे इसकी जरुरत नहीं थी.

लेकिन यह सभी जानकारी हमें होनी चाहिए तब से हम इसपर काम भी कर रहे है और कंप्यूटर से जुडी जानकारी पर कई सारे आर्टिकल भी लिख चुके है. इससे होगा क्या सभी नोर्मल कंप्यूटर ऑपरेटर भी Computer All Details जान पाएंगे. हमारे ब्लॉग पर Computer Tips मे कंप्यूटर हार्ड डिस्क के साथ सभी जानकारी जान सकते है.

> जरुर पढ़े – Virus तथा Malware की जानकारी. Computer Virus से जुडी जरुरी जानकारी.

Hard Disk In Hindi ! What Is Hard Disk In Computer ! What Is Hard Disk In Hindi. 

हार्ड ड्राइव को ही Fixed Hard Disk भी कहा जाता है. हार्ड डिस्क यह कई आकारों और क्षमताओं से मिलती है, लेकिन हार्ड डिस्क ड्राइव की बनावट तथा कार्यप्रणाली लगभग एक ही होती है. कोई हार्ड डिस्क एक ही दूरी पर लगी हुई वृत्ताकार चुंबकीय डिस्को का समूह होता है. प्रत्येक डिस्क की सतहों पर किसी चुंबकीय पदार्थ का लेप होता है जिस पर चुंबकीय चिन्ह बनाए जाते हैं.

Hard Disk Definition करनी है तो यह कई प्रकार के तत्वों से मिलकर बनता है. आज के कंप्यूटर आमतौर पर आधुनिक तरीको से डिजाईन किये जाते है जिनके एक हार्ड डिस्क अरबों से ट्रिलियन बाइट स्टोरेज तक कहीं भी हो सकता है.

सबसे ऊपरी और सबसे नीचे डिस्क की बाहरी सतहों को छोड़कर अन्य तत्वों पर डाटा स्टोर किया जाता है. ऐसी प्रत्यक्षता के लिए एक अलग अलग रीड राइट हैंड होता है, जो आगे पीछे सरक सकता है. एक साधारण  हार्ड डिस्क की संरचना ( Hard Disk Structure ) नीचे दिए गए Hard Disk Picture के माध्यम से देख सकते हैं.

Parts Of Hard Disk In Hindi.
Parts Of Hard Disk In Hindi.

हार्ड डिस्क यह कई अलग-अलग चीजो से बनी डिस्क होती है. किसी Hardisk  मे डिस्क को तेज गति से घुमाया जाता है इनके घूमने की गति 3600 चक्कर/ मिनट (Rotation Per Minute) तक होती है. Hard Disk Parts की बात की जाए तो इसमें हेड आर्म, स्पिंडल, रीड राईट हेड, प्लेट्स, ट्रैक्स और सेक्टर्स जैसे और भी चीजे इस्तेमाल की जाती है जो निचे दिए गए है.

  • Read Write Head,
  • Mounting Chassis,
  • Bezel,
  • Sealed Chamber,
  • Disk Platters,
  • Head Arm,
  • Head Actuator,
  • Drive Electronics PCB,
  • Head Electronics,
  • Anti Vibration Mount,

रीड राइट हैड और डिस्क की सतह के बीच लगभग 0.064 इंच का अंतर होता है. सभी देश के एक साथ घूमती है और सभी Read-Write Head एक साथ आगे पीछे सकते हैं, परंतु डाटा लिखने और पढ़ने के लिए एक ही रीड- राइट हैंड को चुना जाता है. इस प्रकार विभिन्न रीड राइट हैडो को चुनते हुए किसी भी सतह के किसी भी सेक्टर से डाटा पड़ा या उस पर लिखा जा सकता है.

आधुनिक हार्ड डिस्को की क्षमता ( Latest Hard Disk Capacity ) 200 गीगाबाइट तक होती है. Personal Computers के लिए विशेष प्रकार की हार्ड डिस्क भी उपलब्ध है, जिन्हें विंचेस्टर डिस्क भी कहा जाता है. Hard Disk Storage की बात की जाए तो इनकी क्षमता 20 गीगाबाइट से 80 Gigabyte तक होती है.

हार्ड डिस्क सूचनाओं को स्थाई रूप से संग्रहित करने का विश्वसनीय माध्यम है और HardDisk का उपयोग करने की गति भी पर्याप्त होती है. लेकिन यह धूल आदि के प्रति बहुत संवेदनशील होती है, जिसके कारण इन को एक डिब्बे में स्थाई रूप से बंद रखा जाता है और System Unit ( सिस्टम यूनिट ) के भीतर लगा दिया जाता है.

इन सभी छोटे-बड़े पार्ट्स को मिलाकर एक हार्ड डिस्क बनाई जाती है. इसीलिए जब भी किसी हार्ड ड्राइव को को सिर्फ जानने के लिए खोलना है तो पहले इसकी पूरी जानकारी प्राप्त करले. क्या आप जानते है Hard Disk Kaise Repair Kare? अगर आपका जवाब ना मे मिलता है तो पहले आपको फुल कंप्यूटर कोर्स की जरुरत पढेगी जो यहा पर मिलते रहेगा.

> जरुर पढ़े – Computer के विभिन्न पार्ट्स जो सभी कंप्यूटर यूजरस को जानने चाहिए

Types Of Hard Disk In Hindi ! हार्ड डिस्क के प्रकार.

अगर आज की बात की जाये तो दो तरह की हार्ड डिस्क होती है जिसमे पहली Internal Hard Disk होती है और दूसरी External Hard Disk होती है. वर्तमान मे चार टाइप्स के Hard Drives होते है जिनकी जानकारी निचे दी गयी है.

  1. Serial ATA (SATA),
  2. Parallel Advanced Technology Attachment (PATA),
  3. Solid State Drives (SSD),
  4. Small Computer System Interface (SCSI).

इससे पहले की किसी भी यूजर के लिए अच्छी डिस्क खरीदना हो, अपने इस्तेमाल को जरुर समज लेना चाहिए. निचे सभी हार्ड ड्राइव्स की जानकारी दी गयी है जो कौनसे कंप्यूटर/सर्वर के लिए इस्तेमाल करना होता है.

Sr.No.ParticularsDrive TypesInterface
1Video codingHDDSATA
2Data storage’sHDDSATA
3Backup systemsHDDSATA
4Large but not high loaded serversHDDSATA
5Database management systemsHDDSAS
6High loaded web serversHDDSAS
71С serverHDDSAS
8High-load projectsSSDSATA
9CMSSSDSATA

चलिए देख लेते है अब इन चारो डिस्क्स का इस्तेमाल और डिटेल्स क्या है? देखते है Usage Of Hard Disk थोडासा विस्तार से.

  • SATA.

SATA Hard Disk का पूरा नाम Serial Advanced Technology Attachment है जो Connected Drives के Serial interface को जोड़ने के काम आता है. साटा इंटरफ़ेस कम गति पर बड़े Data Volume को संभालता है. इसकी कम कीमत और अच्छी कार्यक्षमता के साथ यह उपलब्ध हो जाती है. इसीलिए यही कारण है कि अब इसका इस्तेमाल आमतौर पर PC और Server Hardware में उपयोग किया जाता है.

  • PATA.

साटा इन हार्ड ड्राइव ने डेस्कटॉप और लैपटॉप कंप्यूटर में पाटा ड्राइव को बदल दिया है. दोनों के बीच मुख्य Physical Difference Intarface है, हालांकि कंप्यूटर से कनेक्ट करने की इन दोनों की प्रक्रिया एक समान है. SATA Disk Drive Advantages को देखते हुए अब पाटा ड्राइव का इस्तेमाल ना के बराबर ही होता है.

  • SSD.

SSD Drive ये लेटेस्ट हार्ड डिस्क हैं जो अभी कंप्यूटर क्षेत्र मे उपयोग मे लिया जाता है. यह अन्य ड्राइव से पूरी तरह अलग हैं कि इनमें आगे बढ़ने वाले भाग शामिल नहीं हैं. यह चुंबकत्व का उपयोग कर डेटा स्टोर नहीं करते हैं बल्कि इसके बजाय एसएसडी Flash Memory Technology का इस्तेमाल करते हैं.

यह डिस्क डेटा को स्थायी रूप से संग्रहीत करने के लिए integrated circuits या Semiconductor devices का इस्तेमाल करते हैं और तब तक स्टोर करके रखता है उसे मिटाये नहीं जाते हैं.

  • SCSI Or SAS.

SAS को ही संक्षिप्त रूप से Serial Attached SCSI कहा जाता है. यह हार्ड डिस्क ड्राइव को जोड़ने के लिए एक सीरियल इंटरफेस है जो एससीएसआई कमांड सेट पर आधारित है. एसएएस की एक बात अच्छी नहीं है की इसकी कीमत अन्य के मुकाबले काफी ज्यादा होती है. एसएएस इंटरफ़ेस 1,200 एमबी / सेकंड तक की दर से संचालित होता है, 12 जीबी / सेकंड तक Throughput के साथ.

> जरुर पढ़े – Without Formatting Drive Space Increase करे ! IncreaseComputer Partition Space
> जरुर पढ़े – Android Mobile Device Without Computer रूट कैसे करने की प्रक्रिया.
> जरुर पढ़े – Basic Computer Knowledge ! Introduction To Computer ! कंप्यूटर का परिचय.
> जरुर पढ़े – मोबाइल इन्टरनेट को कंप्यूटर या लैपटॉप पर मुफ्त मे इस्तेमाल कैसे करे.
> जरुर पढ़े – कंप्यूटर ड्राइव कैसे लॉक करते है ! Computer Hard Drives Lock करने की प्रक्रिया.

आशा करते है Computer Hard Disk Drive के बारे मे दिया गया आर्टिकल आपको पसंद आया होगा. इसी प्रकार की Computer Ki Jankari पाने के लिए इस ब्लॉग को Subscribe करे. अगर आपके Types Of Hard Disk के बारे मे कोई सवाल है तो हमें बताये निचे कमेंट बॉक्स मे. हार्ड डिस्क ड्राइव के बारे मे जानकारी देने वाला आर्टिकल अपने मित्रो और बेसिक यूजर तक पहुचाने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लेना ना भूले.

*****

3 COMMENTS

  1. hard disk ke baare me aapne bahut hi detail me bataya hai, yah padh kr achchhi knowledg hui. but isake prakar ke bare mme thori aur detail me bataye………….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here