सभी गणपती भक्तो को Ganesh Chaturthi 2022 की हार्दिक शुभकामनाये। आज इस पोस्ट द्वारा गणपती जिसे विनायक, संकट मोचक, गजानन, गणेश जैसे कई नामो से संभोदित किया जाता है उन सर्वशक्तिमान श्री गणेशाय के बारे मे जान सकते है. भारतीय हिन्दू गणेश चतुर्थी 2022 को बहुत ही धूम-धाम से मनाते है.

Ganesh-chaturthi-kya-hai-puri-jankari
Ganesh chaturthi kya hai puri jankari

गणेश चतुर्थी श्री गणपति जी के जन्मदिन पर मनाए जाने वाला हिंदू त्योहार हैं। गणेशजी चतुर्थी के शुभ अवसर को विनायक चतुर्थी के रूप में भी जाना जाता है और इस वर्ष भी 30 अगस्त 2022 को मनाया जाएगा।

अंगारक विनायक चतुर्थी की जानकारी.  

इसी हिंदी त्योहारों मे Vinayaka Chaturthi के नाम से भी जाना जाता है विनायक चतुर्थी गणेश चतुर्थी को.

इस साल गणपती पूजा अगस्त के अंतिम week मे शुरू होगी, आने वाले साल याने की 2022 मे गजानन चतुर्थी 30 August 2022 को रहेगी और पिछले साल यही गणेश पूजन (संकष्ट चतुर्थी) 10 सितंबर 2021 को मनाई गयी थी.

इस वर्ष गणपति उत्सव मे गणेश जी को हाथी पर विराजमान करके एक वाहन मे सार्वजनिक मंडल में एक मूर्ति लाकर शुरू होता है और दस दिन तक यह त्यौहार जारी रहता है।

गणेश भगवान शिव और देवी पार्वती के पुत्र है और उनके जन्मदिन को ही गणेश चतुर्थी के रूप मे मनाया जाता है, जिसमें हिंदू कैलेंडर के अनुसार भाद्रपद के चौथे महीने मे मनाया जाता है।

गणपति उत्सव त्योहार सार्वजनिक और घर पर मनाया जाता है सार्वजनिक उत्सव में सार्वजनिक पंडलों और समूह की पूजा में गणेशों की मिट्टी की छवियां स्थापित करना शामिल है।

घर में, एक उचित आकार की मिट्टी की छवि स्थापित की जाती है और उसके परिवार और दोस्तों के साथ पूजा होती है।

त्योहार के अंत में, मूर्तियों को एक झील या तालाब जैसे पानी के बहाव में विसर्जित किया जाता है.

Ganesh Chaturthi 2022। Ganapati Utsava 2022.

गणेशोत्सव महाराष्ट्र में एक भव्य त्यौहार है जबकि आंध्र प्रदेश, गुजरात और तमिलनाडु जैसे अन्य भारतीय राज्य भी इस त्यौहार को मनाते हैं।

गणपति चतुर्थी त्योहार एक भव्य उत्सव है जो गणपती विसर्जन के साथ समाप्त होता है।

यह माना जाता है कि भगवान गणेश के जन्मदिन पर गणपती विसर्जन समारोह के बाद भगवान शिव और देवी पार्वती वापस लौट आएंगे।

गणेश चतुर्थी समारोह में गणपति की पूजा का आयोजन होता है, और सबके बेहद प्यारे सर्वशक्तिमान गणेश जी के लिए विभिन्न विशेष व्यंजन बनाते हैं।

जैसा कि हम ख़ुशी-ख़ुशी से एक साथ आते हैं और गणेश चतुर्थी का जश्न मनाते हैं.

गणेश चतुर्थी एक हिंदू त्योहार है जो हाथी के मुख वाले भगवान गणेश के सम्मान में मनाया जाता है।

Ganesh Chaturthi अर्थ है “चौथे दिन” या “चौथे राज्य” समारोह पारंपरिक रूप से हिंदू कैलेंडर के महीने में पहले पखवाड़े के चौथे दिन, आमतौर पर अगस्त या सितंबर में ग्रेगोरीयन कैलेंडर में आयोजित किया जाता है। त्योहार आमतौर पर दस दिन तक रहता है, जो पखवाड़े के 14 वें दिन समाप्त होता है।

गणेश चतुर्थी के अवसर पर Ganesh Chaturthi Thaouts:

गणेश जी का रूप निराला है, उनका चेहरा भी कितना बोला-भाला है,जिसे भी आती है कोई मुसीबत, उसे श्री गणेश जी ने ही तो संभाला है. बोलो है श्री गणेशा.

मेरे तरफ से आप सभी को और आपके पुरे परिवार को Happy Ganesh Chaturthi.

गणेश की ज्योति से नूर मिलता है, पुरे दिलो को सुरूर मिलता है, जो भी आता है गणपती के द्वारा कुछ ना कुछ उसे जरुर मिलता है.

Happy Ganesh Chaturthi!

आपका और खुशियों का जनम जनम का साथ हो, हर किसी की जुबान पर आपकी तरक्की की ही बात हो, जब भी कोई मुश्किल आये, My friend Ganesha humesha आपके साथ ही हो.

Happy Ganesh Chaturthi!

आते है बड़े धूम से श्री गणेशा, जाते भी बड़े धूम से गणेश जी, आखिर सबसे पहले आपकर, हम सबके दिल मे बस जाते है हमारे गणेश जी.

हैप्पी गणेश चतुर्थी!

happy ganesh chaturthi utsav ganpati pooja
happy ganesh chaturthi utsav ganpati pooja

भक्ति गणेशा, शक्ति गणेशा, आपकी जिंदगी सवारे गणेशा, खुशिया ही खुशिया अपने साथ लाये श्री गणेशा.

रूप बड़ा निराला, गणपती हमारा बड़ा प्यारा, जब कभी भी आयी कोई भी मुसीबत, मेरे बाप्पा ने मुसीबत को पल भर मे हल कर डाला.

Happy Ganesh Chaturthi!

गणेश चतुर्थी के भव्य समारोह का अपना इतिहास है जो वास्तव में प्रेरणादायक है। हालांकि गणेश चतुर्थी समारोह की उत्पत्ति दक्षिण भारत में हो सकती है, लेकिन छत्रपती शिवाजी ने इस Ganesh Chaturthi का प्रयोजन करते हुए त्योहार को मुगल मराठा युद्ध के बाद एक सार्वजनिक आयोजन के रूप में मनाना शुरू किया।

माना जाता है कि गणेशोत्सव ने 19वीं शताब्दी के भारतीय स्वतंत्रता सेनानी लोकमान्य तिलक में लोगों को एक साथ मिलाने के लिए गणेश चतुर्थी उत्सव को बढ़ावा दिया।

जरुर पढ़े – Happy New Year Masages, Quotes And Shayaris

Ganesh Chaturthi भारत के साथ-साथ अन्य विदेशी देशों में भी इस त्यौहार का जश्न मनाते हैं। यहां हर किसी को खुशहाल करता है और उनकी इच्छा पूर्ण करता है श्री गणेश चतुर्थी त्यौहार.

इस प्रकार से गणेश चतुर्थी के पवन अवसर पर आप भी अपने घरो से बहार निकले और जी भर के बाप्पा की गणेश चतुर्थी त्यौहार का आनंद ले, पर हमारी आपसे विनती है की गणपती विसर्जन की ख़ुशी सेलिब्रेट करने के साथ अपने आप को गहरे पाने मे जाने से रोके.

Ganesh Chaturthi 2022 Dates.

Festival NameDaysDate of Festivals
Ganesh ChaturthiFriday30 August 2022

अंत मे फिर से एक बार बता दे की गणेश चतुर्थी  जिसे विनायक चतुर्थी या कभी कभी विनायागर चतुर्थी भी कहा जाता है जो हिंदू कैलेंडर माह भाद्रपद में, शुक्ला चतुर्थी (चौथे चांद के चौथे दिन) से शुरू हुआ।

गणेश चतुर्थी यह त्यौहार उस दिन का प्रतीक है जिस पर भगवान गणेश अपने सभी भक्तों के लिए पृथ्वी पर अपनी उपस्थिति बनाते हैं। यह त्यौहार 10 दिनों तक रहता है और अनंत चतुर्दशी पर समाप्त होता है।

happy-ganesh-chaturthi-utsav-mahotsav
happy ganesh chaturthi utsav mahotsav

त्योहारों के दौरान, एक घर गणेश की मूर्ति की पूजा की जाती है और त्योहार का सार्वजनिक उत्सव होता है।

गणेश चतुर्थी की सरल पूजा विधि जानिए.
  • हर साल जब भी गणेश चतुर्थी का त्यौहार आये सुबह नहाने के बाद भी पूजा विधि के समय फीर नहाये. बाद मे स्नान विधि होने के बाद सोने, चांदी, तांबे, पीतल या फिर किसी मिट्टी से बनी भगवान गणपती जी की प्रतिमा स्थापित करें.
  • गणेश जी की मूर्थी स्थापित करने के बाद श्री गणेश जी भगवान को अगले समय जनेऊ पहनाएं.
  • जनेऊ पहनाने के बाद गणेश चतुर्थी के शुभ अवसर पर अबीर, चंदन, गुलाल, सिंदूर, इत्र आदि प्रतिमा पर चढ़ाएं. श्री गणेश जी की पूजा के लिए पूजा का धागा अर्पित करें और चावल चढ़ाएं.
  • गणेश मुर्ति की स्थापना करते समय गणपती मंत्र बोलते हुए दूर्वा चढ़ाएं और ganesh जी की पसंद के मोदक या लड्डुओं का भोग लगाएं.
  • कर्पूर हाथ मे ले और कपूर से से श्रीगणेश भगवान की आरती करें. जब गणपती पूजा समाप्त हो जाए तो पूजा के तुरंत बाद लड्डू, मोदक जैसे प्रसाद सभी उपस्थित भक्तों को बांट दें.
  • ganesh chatruthi के शुभ अवसर पर अगर आपके लिए संभव हो सके तो घर में पंच पकवान बनाकर ब्राह्मणों को पेटभर भोजन कराएं और अपने मन अनुसार ब्राम्हणों को दक्षिणा दें.
  • हर गणेश भक्त को श्री गणपती चतुर्थी का व्रत करने मे समय का ध्यान रखना चाहिए. भक्त को शाम को चंद्रमा के दर्शन करना चाहिए पूजा करनी चाहिएऔर पूजा के बाद ही भोजन करना चाहिए.

गणपती विसर्जन, Ganapati Utsav, Geneshotsav, गणेश चतुर्थी और इसी प्रकार के सभी Indian Festivals और लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए Ganesh Chaturthi 2022  के पवित्र आर्टिकल को सोशल मीडिया मे ज्यादा से ज्यादा शेयर करे. सभी भक्तो को फिर एक बार आनेवाली अंगारकी विनायक चतुर्थी की ढेर सारी शुभ कामनाये हैप्पी गणपती बाप्पा मोरया पुढच्या वर्षी लवकर या.