Bounce Rate क्या है ? Bounce Rate Calculate कैसे करते पूरी जानकारी.

1
35

प्रिय पाठक, स्वागत है आपका आज की Bounce Rate Kya Hai? Bounce Rating Kaise Calculate Kare इस पोस्ट पर. ब्लॉग बनाने के बाद हर ब्लोगर को मुख्य रूप से Traffic Kaise Badhaye इस समस्या का सामना करना पढ़ता है.

Bounce Rate Kya Hai- Bounsing Rate Kaise Nikale.

जानिए What is bounce rate in SEO, मतलब क्या होता है search engine optimization मे बाउंस रेट का महत्त्व. वेबसाइट नयी होती है, ठीक से Webmaster Tools में Index नहीं हुयी होती है तथा लोगो की बिच नयी होती है इसीलिए blog traffic की समस्या तो आम होती है.

लेकिन जैसे जैसे समय के साथ Blog Post बढ़ने लगती है ट्रैफिक की समस्या भी कम होती जाती है. but Traffic की समस्या से निपटने के बाद जब Bloggers अपने ब्लोग्स पर अच्छे-खासे क्वालिटी पोस्ट पब्लिश कर देते है जिनसे उन्हें बढ़िया ट्रैफिक प्राप्त हो जाता है.

लेकिन कई सारे ब्लोगर्स को नयी समस्या का सामना इस स्टेप में किया जाता है जिसका नाम है Website Bounce Rate. जी हा यह समस्या भी काफी अहम रोल निभाती है आपकी वेबसाइट के लिए.

> Read – Push Notifications Kya Hai- Push Notification Without Plugin.
> Read – Google Adsense Invalid Click Activity Kya Hai- Invalid Clicks.

What Is Bounce Rate In Hindi?

च्यायला क्या करे हर कोई सुझाव दे रहा था बाउंस रेट कम करो करके but बाउंस रेट को कम कैसे करे यह जानकारी आसानी से कही लिखी नहीं दिखाई दी क्या आपकी भी यही सोच है? हमारी भी पहले यही सोच थी but क्या करे मेहनत के सिवाय थोड़ी कुछ मिलने वाला है.

SEO की नजर से और seo ranking के लिए बाउंस रेट भी बेहद अहम भूमिका निभाता है. आप अगर Blogger है तो आप अवश्य ही Google Analytics का इस्तेमाल करते होंगे. गूगल एनालिटिक्स Google की सर्विस है. इसी के माध्यम से आपको अपने ब्लॉग या वेबसाइट के Bounce Rate के बारे में पता चलता है.

जब कोई Visitor आपके ब्लॉग के कोई भी एक Post या Homepage पर विजिट करता है तथा उसी को देखकर और पढ़ कर Quite कर जाता है. अन्य किसी भी Webpage पर Visit नहीं करता है तो इसी संख्या से आपकी वेबसाइट का बाउंस रेट निकलता है. Bounce Rate Kya Hai, Bounce Rate Kaise Nikalte hai

Bounce Rate उन लोगो की Percentage है जो आपके वेबसाइट के दुसरे पोस्ट को देखे बिना ब्लॉग को छोड़ते हैं, आम तौर पर यह देखा गया है की Bounce Rate बढ़ना अच्छी बात नहीं है.  कम बाउंस रेट का मतलब है Best Website Ranking. इसिलिये Web Analytics Report को जरुर चेक करते रहे.

बाउंस रेट calculate कैसे करते है?

यदि आपकी वेबसाइट का 75% का Bounce Rate है, तो इसका मतलब है कि आपके पोस्ट पर विजिट करने वाले हर 100 Visitors में से 75 visitors ने आपके ब्लॉग के अन्य Posts को नहीं देखा बल्कि आपकी वेबसाइट के पहले Page पर जाने के तुरंत बाद दूसरी वेबसाइट पर विजिट कर लिया या फिर Browser को ही बंद कर दिया.

Landing Page Bounce Rate उदाहरण के लिए एक दिन में मतलब 24 घंटो में आपकी वेबसाइट के 1000 Page views होते है और इन Views में 300 सिर्फ एक Homepage या Post पर विजिट करके विजिटर चले गए है तो इस संख्या से आपके ब्लॉग का 30% तक Bounce Rate निकलता है.

  • बाउंस रेट निकालने का उदाहरण-  300 ÷1000*100 = 30%
  • Bounce Rate = सिर्फ एक Post को देखने वाले Visitors की संख्या / Total Page views

इस प्रकार से ऊपर दिए गए उदाहरण अनुसार Google Analytics हर वेबसाइट का Bouncing Rate Calculate करता है. इसी कैलकुलेशन को बाउंस रेट कहा जाता है.Bounce Rate Kya Hai- Bouncing Rate Kaise Calculate Karate Hai

जिस प्रकार आप ऊपर देख रहे है हमारे एक blog का बाउंस रेट 67.80 दिखाई दे रहा है और daily के pv 7,573 है बस यही आप गूगल analytics मे find करते है. जब अपने website की blog की Global rank और other page per visitors check करते है तो यह हमे दिखाई देता है.

> Read – Ad Blocker Disable कैसे करे और Adsense Earning कैसे बढ़ाये.

Bounce Rate Important क्यो होता है?

हर website का bounce rate average मे होना चाहिए जो अच्छा होता है अब वह news site है तो उसपर ध्यान भी न दिया जाए तो चलता है but एक information blog के लिए यह negative ranking का signal होता है.

जब भी किसी site का बाउंस रेट एवरेज से ज्यादा बढ़ने लगता है तो उस blog की ranking और authority down होने लग जाती है. अगर आपके ब्लॉग का Bounce Rate बढ़ता है तो इसका कारन आपके Visitors बढ़ना भी होता है.

बाउंस रेट तभी बढ़ता है जब visitors आपके ब्लॉग को उस पोस्ट को खोजते हुए आते है जो वह सोच रहे होते है. लेकिन जिस पोस्ट के लिए आपके ब्लॉग का विजिटर Search engine द्वारा पोस्ट पर आये है वह जानकारी ही आपके ब्लॉग पर होती नहीं है.

इसका परिणाम वह visitors उसी पेज को देख कर ही छोड़ जाता है जिससे धीरे धीरे Bounce Rate बढ़ता जाता है. कुछ blogs पर visitors तो भरपूर आते है but वह बिना किसी दुसरे post को खोले बिना निकल जाए तो समज लीजिये वह आपके articles को लेकर interest नहीं रखते.

अब सोचिये bounce rate important नहीं होता तो google की तरह बड़े search engines इसे क्यो display करते और calculate करते बाउंस रेट को? भाई कोशिश कीजिये जल्द जल्द से जल्द इसे घटाने की. सिर्फ copy content से गुजारा नहीं होगा बल्कि अपने content मे आपको value पैदा करनी होगी.

सोचिये अगर content मे दम नहीं होता तो आपके visitors क्यो किसी दुसरे पोस्ट को पढना चाहेंगे. अब वह दुसरे interlinking articles को open ही नहीं करेंगे तो site rank तो गयी समजो और एसा हुवा तो income तो बाबाजी का ठुल्लू ही मिलेगी.

> Read – Leverage Browser Caching प्रॉब्लम कैसे ठीक करे.
> Read – Limit Login Attempts Code Setup Kaise Kare Without Plugin.
> Read- 12 Proven Methods To Reduce Website Bounce Rate

अगर Bounce Rate के बारे में सोचा नहीं गया तो एक दिन आपके ब्लॉग का Bouncing Rate 100% हो जायेगा जो आपके ब्लॉग के लिए बिलकुल भी ठीक नहीं है. बाउंस रेट बढ़ने से Blog Ranking भी बुरी तरह से प्रभावित होती है. इसीलिए बाउंस रेट को बिलकुल भी Ignore न करे.

Average Bounce Rate कितना होना चाहिए?

आप सोच रहे होंगे की एक Acceptable या Average Bounce Rate क्या हो सकता है? जैसा की हमने ऊपर दिए गए उदाहरण से समझाने की कोशिश की है की बाउंस रेट कैसे निकलता है. लेकिन यह कहना भी कठिन है की Bouncing Rate कितना होना चाहिए.

क्योकि हर वेबसाइट के लिए यह अलग अलग Count होता है. जैसे वेबसाइट वैसा बाउंस रेट होता है. फिर भी कितना कितना बाउंस रेट होना चाहिए जानिए निचे दी गयी जानकारी से.

  1. अगर आपका ब्लॉग या वेबसाइट किसी Online Store से जुडी है तो उसका बाउंस रेट 30-50% तक होना चाहिए.·
  2. अगर आपकी वेबसाइट visitors की जानकारी या किसी प्रकार की हेल्प के लिए बनी है तो उसका बाउंस रेट 50-70% तक होना चाहिए.
  3. अगर आपकी वेबसाइट 70-80% है तो भी कुछ हद तक ठीक है, लेकिन इससे ऊपर बाउंस रेट आने लगी है तो आपको इसपर सोचना चाहिए और Research करना होगा की आपके Visitors आपके ब्लॉग से क्या चाहते है, किस तरह की जानकारी वह पढना पसंद करते है.

आपकी जानकारी के लिए short मे कौनसी category के website के लिए बाउंस रेट कितना सही है इसका उदाहरण ऊपर दिया हुवा है

  1. 1% से 20% (बहुत सुन्दर होगा).
  2. 21% से 50% (सुन्दर है).
  3. 51% से 70% (अच्छा है).
  4.  71% से 80% (सुधारना चाहिए).
  5. 81% से 100% (बाबाजी का ठुल्लू मिलेगा google से जल्द ही).

आपकी जानकारी के लिए short मे कौनसी category के website के लिए बाउंस रेट कितना सही है इसका उदाहरण ऊपर दिया हुवा है. इस तरह से ऊपर दी गयी Bounce Rate Kya Hai? Bouncing Rate Calculate कैसे करे? इस पोस्ट से आप समज चुके होंगे की किस तरह से बाउंस रेट निकाला जाता है तथा किस चीज को बाउंस रेट कहते है.

बाउंस रेट कम कैसे करे?

हमे लगता है आपको इस ब्लॉग को subscribe कर लेना चाहिए because हर information सबसे पहले और सटीक यहा से मिलती है. इस page को bookmark करके रखे जब आपको बाउंस रेट कम करना होगा क्योकि समय लगता है हर चीज का setup करने मे.

आज से ही अपने website का बाउंस रेट कम करने की तरफ बढिए. एक average ideal bounce rate सबसे बड़ी और popular website के लिए 10% से भी कम होता है जो काफी ना के बराबर ही देखि जाती है.

बल्कि 10% से 20% तक bounce rate sites हजारो मे कुछ देखी जा सकती है. सोचिये अगर 50 से 60% तक बाउंस रेट होगा तो इतने user सीधे एक page से back कर जाते है.  12 Proven Methods bounce rate कम करने के लिए हमारी बाउंस रेट कम कैसे करे यह पोस्ट आपको पढना चाहिए.

> Read – WordPress Old Post Revision डिलीट कैसे करे.
> Read- 11 Best Ways Jo Google Adsense Account Disable Hone Se बचाए.
> Read –Google Adsense Payment Method Kaise Add Kare.

आशा करते है की बाउंस रेट क्या है और कम कैसे करे के बारे में दी गयी जानकारी आपको पसंद आयी होगी. जल्द ही Bounce Rate Kaise Kam Kare? Bounce Rate Kaise Decrease Kare? यह जानकारी पब्लिश करेंगे.

***

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here