भुतहा हाथ एक रहस्यमयी haunted story जो रात मे डराती है.

0
29

लोग आज भी अजीब अजीब बाते करते नजर आते है who is bhoot, भूत क्या है? bhoot kaise dekhe? क्या भूत देख सकते है? आदि. लेकिन भुत प्रेत आत्मा सिर्फ एक शरीर के रूप मे ही नहीं बल्कि किसी शरीर के टुकड़े के रूप मे भी किसी का दिल दहला देते है. एक एसी ही रहस्यमयी paranormal haunted bhut story bhootaha haath (भूतहा हाथ) की सच्ची कथा देखते है.

Darawane Bhootaha Haath Ki Hindi Kahani

इससे पहले भी कई डरावनी घटनाये दुनिया मे घट चुकी है. आपको पता होगा top haunted places india मे कितने है और क्या है उनका पुराना सच. अगर नहीं पता है तो आपको हमारे hindi story collection को एक बार जरुर पढ़ना चाहिए.

Paramornal story bhootaha haath.

यह बात मई, 1976 की है, 28 वर्षीया फ्लोरेंस वारविक ने सड़क के एक किनारे अपनी नाव रोक कर क्षेत्र का नक्षा देखणा आरंभ किया. रात होने लगी थी. कार के भीतर की रोशनी और निकट से गुजरती गाडीयो की headlights के light में वह नक्शे का ध्यान से अध्ययन कर ही रही थी कि अचानक उसे कार के भीतर की हवा ठंडी महसूस हुई.

जाहिर है तब ठंड का सवाल ही नहीं था, फ्लोरेंस ने यह भी महसूस किया मानव से कोई कहीं से देख रहा हो उसने सामने की ओर देखा कार की विंडस्क्रीन पर बहुत बड़े आकार के दो कटे हाथ चिपके हुए थे. हाथों की उंगलियां शिष्य पर तबला सा बजा ही थी.

देखते ही देखते वह हाथ शीशे पर उस तरह चलने लगे जैसे उंगलियां ही उन हाथों के पैर हो. फ्लोरेंस का रक्त बर्फ की भांति जम गया फटी फटी आंखों से उसने सारा नजारा देखा और आखिरकार साहस करके चीख पड़ी.

वह Haunted Bhootaha Hath उड़न छू हो गये, फ्लोरेंस के साथ जो कुछ भी हुआ वह उस सड़क पर होता ही रहता था विशेष तौर पर उन लोगों के साथ जो पोस्ट ब्रिज से डार्टमुर के मध्य किसी भी कारण से रुकते थे.

इसीलिए उस इलाके से बहुत पहले क्षत्रिय अधिकारियों की मंजूरी से तमाम बोर्ड लग गए थे, जो बताती थी कि गाड़ी में तेल कम है कोई खराबी है अथवा किसी भी चीज की कोई आवश्यकता है तो अमुक स्थान से पूर्व नहीं मिलेगी.

उस जगह के नक्शे को देखने से भी इन बातों की जानकारी मिल जाती थी करीब 60 वर्ष पूर्व जब से से से इन bhootaha haat haunted प्रेतलीला चालू हुई किसी प्रकार की व्यवस्था चली आ रही थी.

पर्यटकों का कोई दल उस क्षेत्र में किसी भी कीमत पर रुकने नहीं दिया जाता था. फ्लोरेंस वापस टोरबे लौट गई. वह उस जगह अपने दोस्तों के घर रुकी हुई थी वापसी में करीब 30 किलोमीटर कार जाने के बावजूद उसे आभास ही नहीं हो पाया कि कैसे कार स्टार्ट हुई और रास्ता कैसे तय हुवा.

अजब कार दुर्घटनाये कैसे हो गयी.

टोरबे पहुंचकर फ्लोरेन्स ने यह हादसा कह सुनाया. वह सोच रही थी कि उसके दोस्त हसेंगे, लेकिन उन सभी को यह मालूम था. फ्लोरेन्स को उन लोगो ने बताया कि haunted bhootaha haath जैसी बात तो अक्सर होती रहती है, बौखलाहट में कइयों ने दुर्घटना कर डाली है.

यह प्रेतलीला लोकविश्वास के अनुसार सन 1920 के आसपास पहली बार शुरु हुई तेज रफ्तार गाड़ियों के बजाये घोड़े तथा खच्चर इसी मार्ग पर बिदक जाते थे. घुड़सवार घोड़े से नीचे पटक दिये जाते थे. पालतु जानवर ताबड़तोड़ नाक की सीध में इस प्रकार भागना चालु कर देते थे कि अंजाम दुर्घटना के रूप में ही सामने आता था.

साइकिल चलाने वालों के हाथ से हैंडल छूट जाते थे और उनकी साइकिले हवा में कलाबाजी खाती हुई सड़क पर गिरती थी. एक मामले में एक स्थानीय डॉक्टर अपनी मोटरसाइकिल पर सवार जा रहा था उसके बच्चे मोटरसाइकिल की साइड कार में बैठे थे. एकाएक उसकी मोटरसाइकिल का नया इंजन अलग होकर सड़क पर गिर पड़ा.

मोटरसाइकिल इंजन के ऊपर से गुजरी और नीचे उतर गई शुक्र था कि डॉक्टर तथा उनके दोनों बच्चे बच गए. सन 1945 के पश्चात कई मामले में गाड़ी चलाने वालो ने अपने साथ हुई दुर्घटनाओं का कारण ऊन अज्ञात हाथो को बताया जो एकाएक उनकी गाड़ी में घुसकर स्टेरिंग घुमाने लगे जैसे कोई नौसिखिया गाड़ी चलाना सीखने की लालइत हो.

ब्रिटेन की शाही थल सेना के कैप्टन जैकब पीटर ने एक समाचार पत्र को बताया था, मैं ठीक-ठाक चला जा रहा था पोस्ट ब्रिज के पश्चात दो छोटे पुलों के बाद ही एकाएक मुझे अजीब सा लगा मेरे हाथों पर दो हाथ कसकर जमे हुए थे.

मैं डर गया वह darawane bhootaha haath किसके थे यह पता चला ही नहीं. क्योंकि केवल हाथ की दिखाई दे रहे थे. सामने से आती हुयी गाड़ियों ने बचने हेतु मैंने स्टेरिंग जैसे ही एक और को काटा, उन्होंने स्टेडियम को उसी दिशा में और ज्यादा जोर से घुमा दिया. गाडी सड़क से नीचे उतर गई सन 1921 ईस्वी से लगातार हादसों के बाद स्थानीय प्रशासन ने सड़क का रास्ता ही बदल दिया.

मगर लगता है पूरे क्षेत्र में उन bhootaha haath का रहस्य था. नई सड़क बनने पर भी वही सब होने लगा. सन 1955 में एक नवविवाहित जोड़ा इस क्षेत्र से होकर जा रहा था. तभी एकाएक कोहरा छाने लगा सर्दियों के दिन थे. अतः उन दोनों ने वही रात बिताना तय किया.

कुछ खा पीकर वह आराम से गाड़ी के पीछे बने शयनकक्ष में सो गये. रात में किसी समय एकाएक ही नववधु की आंख खुल गई कोई गाड़ी के शीशे थपथपा रहा था. उसने सोचा कि शायद कोई कुत्ता मार्ग भटक गया होगा और ठंड से बचने के लिये अंदर घुसने को पंजा मार रहा होगा.

तभी उसने अपने पती के सिर के पास शीशे की खिड़की के आर पार जो नजारा देखा, तो वह स्तब्ध रह गयी. वहा दो भयानक डरावने bhootaha haath धीरे धीरे रेंग रहे थे. साहस करके उसने ईश्वर को याद किया की हाथ अचानक गायब हो गए.

इस घटना को लेकर बहुत तरह की सच्ची झूटी बाते कहि सुनी गई मगर 1960 में ऐसा हादसा हुवा जिसने सभी को भयानक भूतहा हाथों की सत्यता पर विश्वास करने पर मजबूर कर दिया.एक मोटर चालक प्लाईमाउथ क्षेत्र से चीर फाड़ की तरफ जाते हुए इस इलाके में अपनी कार के मलबे में मृत पाया गया. कार उलट गयी थी.

सड़क पर किसी अन्य गाड़ी से टक्कर का कोई प्रमाण नहीं था. कार का इंजन सही सलामत था कहीं किसी भी विभाग में कोई खराबी नहीं थी. कार चालक के ड्राइविंग लाइसेंस से पता चला कि वह 12 साल से गाड़ियां चलाता रहा है, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला कि वह नशे में नहीं था.

Bhootaha haath की सच्चाई क्या है?

पुलिस ने जांच में पाया कि वह मरने वाले के हाथ स्टेडियम पर कसकर जमे हुए थे. उसकी उंगलियां टूट चुकी थी किंतु स्टीयरिंग नहीं छूटा था. मृतक डिक कैली के हाथों पर गहरे दबाव के निशान मौजूद थे, उसकी आंखें मरने के बावजूद भी विस्मय से फटी हुई थी गर्दन सामने की बजाय नीचे झुकी थी, मानो मरने से कुछ क्षणों पूर्व उसका ध्यान किसी खौपनाख चीज की तरफ गया था.

इन bhootaha haath की कहानी ठीक उसी तरह है, जैसे sapne me bhoot se ladna कठिन हो गया हो. अगर आप भी भी कामना करते है bhoot aur naye सपने या फिर bhoot pret 2019 मे आप भी देखना चाहते है तो एसी कल्पना ना करे तो अच्छा है. bhoot hote h kya इस पर चर्चा करना कोई चाय पर चर्चा जैसी बात नहीं है. आखिर khatarnak bhoot होते है या फिर इन्सान यह तो आप भी जानते होंगे.

आशा करते है आप नहीं चाहेंगे इन bhootaha haath की तरह डरावने सपने को देखना और सामना करना. अगर आप चाहते है इसी तरह के सच्ची डरावनी हिंदी कहानिया आपको मिलती रहे तो हमारे latest notification subscribe करना जरुरी है.

***

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here