गुरुसेवा की कहानी- वेदधर्म रुषी और महान शिष्य दीपक की अद्भूत हिंदी कथा

0
31

प्रिय पाठक, स्वागत है आपका हिंदी कथाये सीरिज की गुरुसेवा से समर्पित आज की नयी कथा वेदधर्म रुषी और महान शिष्य दीपक की अद्भूत हिंदी कथा पर. यह कहानी है जिसे पढ़कर आपको अवश्य प्रसन्नता होगी.

गुरुसेवा-GuruSeva Ki Katha- Mahan Dipak Ki Adbhoot Kahani

क्या आप जानते है की हम यशोमंदिर किस के दमपर बांध सकते है? नहीं ना? तो सुनिए, यह एक मंदिर गुरु के होने पर बांध सकते है.लेकिन यह मंदिर बनने के लिए हमारी गुरुपर निष्ठा और भक्ति होनी चाहिए.

एसेही एक महान शिष्य की कहानी हम आपके लिए पब्लिश कर रहे है. उस शिष्य का नाम दीपक था. दिपक ने अपने अथक कष्टों के साथ गुरुसेवा करके अनमोल ग्यान का खजाना पाया था. उसने यह कैसे किया आपको जरुर जानना चाहिए.

गुरुसेवा की हिंदी कहानी.

गोदावरी नदी के पास घने जंगल में अनेको रुषीमुनियों ने शांत जगह होने की वजह से अपनी तपोभूमी के तौर पर चुना था. इसी तपोभूमी में वेदधर्म नाम के एक महान रुषी रहते थे. उनके बहुत सारे शिष्य थे जिनका समूह भी काफी बढ़ा था.

उन शिष्यों में दीपक नाम का एक शिष्य था. वह वेदधर्म रुषी का मनपसंद शिष्य था. हर शिष्य की परीक्षा जब गुरु के मन में आये तब वह लेते है.

उसी के अनुसार वेदधर्म रुषी ने अपने शिष्यों से कहा की, ‘मैंने मेरे जीवन में अनेको पाप किये; लेकिन उनमेसे बहुतसी मेरे ताप के कारन नष्ट हो गयी. अब जितने बचे है वह मै काशी में जाकर उसका प्रायश्चित करना चाहता हु.

गुरुसेवा-GuruSeva Ki Katha- Mahan Dipak Ki Adbhoot Kahani

उन पापो की वजह से काशी में जाने पर मुझे गंभीर रोग होंगे. उस परिस्थिती में मेरी सेवा करने के लिए कौन तयार है? उसपर सभी शिष्यों ने अपने-अपने पैर पीछे खेच लिए.

लेकिन दीपक आगे आया, उसने गुरुसेवा करने के लिए अपनी सेवा देने में समर्थता दिखाई. एसा देखकर सभी रुषिमुनियो को आश्चर्य हुवा.

काशी में वेदधर्म रुषी और दीपक दोनों आये. वहा आनेपर वेदधर्म रुषी बुरी तरह से रोगों से भर गए. आदमी को जब कोई दर्दनाक दर्द होता है तो वह बहुत चिड जाता है, उसी के साथ यह बीमारी इतनी भयंकर थी देखते ही डर जाये. इस बीमारी की वजह से वह बहुत चिड गए, दीपक पूरी रात-रात भर उनकी सेवा में  लग गया.

> Read – श्रद्धा में ही शक्ति है- बेस्ट हिंदी देवोशनल कहानी.

गुरु की सेवा करना ही अंतिम लक्ष.

आखो के सामने एक ही लक्ष्य था गुरी की सेवा, वह करने में दीपक को बहुत ख़ुशी होती थी जैसे वह आनंद्सागर में तहर रहा हो एसा लगता था. वही सेवा करने में उसे बहुत परेशानी का सामना करना पढ़ता था वही वेदधर्म उसकी परीक्षा भी ले रहे थे.

उन्होंने दीपक को बहुत परेशान किया लेकिन दीपक घबराया नहीं. उसकी गुरुसेवा उसने शुरू रखी.

काशी में होने पर भी दीपक ने देव दर्शन किये नहीं. किसी की सेवा करना यह बहुत कठिन काम है यह बया करके नहीं बताया जा सकता. तो फिर दीपक जैसे महान शिष्य के बारे में बया करना कैसे आसान होगा. उसकी भक्ति देखकर भगवान शंकर प्रसन्न हुए. लेकिन अपने गुरु की आग्या न होनेपर दीपक ने कोई वरदान भी नहीं मांगा.

आखिर में भगवान शंकर विष्णु के पास गए और उनके पास दीपक की प्रशंसा की. विष्णु जी को भगवान शंकर ने कहने से भी ज्यादा भक्ति दिखाई दी. वह बहुत खुश हुए और वह भी दीपक की गुरुसेवा देखकर प्रसन्न हुए. उन्होंने कहा मांगो दीपक वरदान मांगो. तुम्हे कुछ तो मांगना ही होगा.

तभी दीपक ने भगवान विष्णु से कहा ठीक है आप मुझे वरदान ही देना चाहते है एसा वरदान दीजिये की मेरा पूरा ध्यान गुरुसेवा में ही लग जाये उनकी सेवा के सिवाय मेरा मन कही भी ना विचलित हो पाए तथा गुरु के अंतर्मन की बात भी मुझे पता चल जाये.गुरुसेवा-GuruSeva Ki Katha- Mahan Dipak Ki Adbhoot Kahani

भगवान विष्णु इस बात से बहुत प्रसन्न हुए और दीपक को वरदान दिया और कहा की गुरु याने बहुत बढ़ा ग्यान का सागर है. तुमने उसमे से सिर्फ दो बूंद भी पीली न तब भी तुम्हे पूरा ग्यान प्राप्त हो जायेगा.

यह सुनकर उस क्षण वेदधर्म रुषी को दिव्य शरीर मिला. दीपक उस घडी में ली गयी परीक्षा में पास हुवा.

वेदधर्म बहुत खुश हुए. उन्होंने भी दीपक को वरदान दिया और कहा की तुम काशी में ही रहो. तुम्हारी वाणी सभी दिशाओ के किनारों पर भरी हुयी होंगी. विश्वेश्वर की सेवा पाने के लिए तुम पात्र होंगे.

गुरुसेवा इस हिंदी की कहानी की सिख.

अगर आप गुरु की सेवा सच्चे मन से गुरुसेवा करेंगे तो आपको भगवान भी पसंद करेंगे तथा गुरुद्वारा सबसे बढ़ा वरदान स्वरुप महान ग्यान का बन्डार भी प्राप्त होगा.

> जरुर पढ़े – भूत और सावकार की मजेदार कहानी- बेहतरीन हिंदी की कहानी.

अगर ऊपर दी गयी गुरुसेवा की कहानी – वेदधर्म रुषी और महान शिष्य दीपक की अद्भूत हिंदी कथा- Guru Shishy Ki Kahani आपको पसंद आयी हो तो इसे सोशल मीडिया में जरुर शेयर करे तथा इसी प्रकार की बेहतरीन कहानिया अपने ईमेल इनबॉक्स में पाने के लिए ब्लॉग को सब्सक्राइब जरुर करे.

***

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here