Bhut, Saavkar Aur Bramhan Ki Majedar Kahani – Bhut Ka Ghar Hindi Story 

Bhoot-Bramhan-Aur-Savkari-Ki-Majedar-Kahaniप्रिय पाठक, Hindi Story Collection की भुत, सावकार और ब्राम्हण की मजेदार कहानी मे आपका स्वागत है. हमने हिंदी Kahani की सीरिज की पिछली पोस्ट मे Jadoo Ki Gudiya – The Suspense Hindi Story पब्लिश की थी. जिसे आप सभी पाठको ने बहुत सराहा और पसंद किया इसके लिए आपका बहुत-बहुत शुक्रिया की आपने हमें हिंदी कहानिया सिरीज को ब्लॉग पर लिखने को कहा. यह कहानी आपको पसंद आएगी आप इसी पूरी पढियेगा.

शुरू करते है Kahani की पहली लाइन, एक सावकार था. वह बहुत पैसेवाला और अमीर था. उसके पास जमीन भी बहुत ज्यादा थी. एक बार उस सावकार के मन आया की, एक बढ़िया और बहुत बढ़ा महल बनाया जाये जो घर जैसा लगे.

> Read – खरगोश और सूरज की सच्ची कहानी- खरगोश की पंचाईत

थोड़े ही दिन मे उसने उसी जगह पर बहुतही सुन्दर, अप्रतिम एसा घर बनाया. सावकार के घर के सामने एक पीपल का पेड़ था. उस पेड़ पर एक भुत रहता था. उसको सावकार का घर इतना पसंद आया की वह भुत उसी घर मे रहने लगा.Bhoot Bramhan Aur Savkari Ki Majedar Kahani

सावकार ने घर की वास्तुशांति की प्रक्रिया को पूरा किया और वास्तुशांति होतेही उस घर मे रहने के लिए आ गया. पहला दिन सावकार का मजे से गया. रात हुयी न हुयी तभी घरसे आवाज आने लगी,

‘गिरू क्या? गिर जाऊ क्या?’

सावकार घबराया. उसने सोचा- हमने जब गृहप्रवेश किया होगा वह समय ठीक नहीं होगा, इसीलिए  गिरू क्या?’ यह पूछता होगा. अगर कभी घर गिरा और हम सब निचे दब गए तो? नहीं रे बाबा! बचपन मे दादी से Kahani सुनते समय सुना था की अगर कोई समय ठीक न हुवा तो कुछ दिन उस परिस्थिति से दूर ही रहे. उससे तो अच्छा मेरा पुराना घर ही है. एसा सोचने के बाद दुसरे दिन उसने नया घर बदल दिया और वह पुराने घर मे रहने लगा.

कुछ दिन तक नया घर खाली ही रहा. एक दिन एक गरीब ब्राम्हण सावकार के पास आया और हात जोड़कर बोला ‘माईबाप’ मै एक गरीब ब्राम्हण हु मुझे रहने के लिए घर दिया तो मुजपर आपके बहुत उपकार होंगे. मुझसे जितना जमेगा उतना पैसा मै आपको भाड़े के देते रहूँगा.Bhoot Bramhan Aur Savkari Ki Majedar Kahani

Kahani का Interesting मोड़ यहा से शुरू हुवा.

सावकार ने सोचा घर तो खाली ही पड़ा है अगर इसको दे दु रहने के लिए भाडे से तो पैसा भी मिलेगा और घर भी साफ़ रहेगा. सावकार ने तुरंत हा करदी. ब्राह्मण का परिवार नए घर मे रहने लगे, पहला दिन आनंद से निकला. रात होते ही घर से आवाज आने लगी ‘गिरू क्या? गिर जाऊ क्या?’ ब्राम्हण ने सोचा की इतने हाल मे, गरीबी मे दिन निकाल ने से तो अच्छा है की इस घर के निचे दब कर मर जाये.

इसीलिए ब्राम्हण बोला ‘गिर जा भाई गिर जा!’

उसी के साथ सोने-चांदी की बरसात होने लगी. ब्राम्हण ख़ुशी से झूम उठा. उसे सभी सोने-चांदी को इकट्ठा किया.

> Read – मुर्ख ब्राम्हण पुत्रो की कहानी- हसी का लोटपोट खजाना

दुसरे दिन ब्राम्हण के अमीर होने की खबर घर के मालिक सावकार को हुयी तब सावकार को समज आया की क्या गिर ने की बात घर कर रहा था, तभी सावकार ने ब्राम्हण और उसके परिवार को धक्के मारकर घर से निकाल दिया और खुद उस घर मे रहने लगा.

अब सावकार रात होने का इंतजार करने लगा.उसे और ज्यादा अमीर होने की जल्दी थी.

आखिर रात हुयी और घर से आवाज आई, ‘गिरू क्या? गिर जाऊ क्या?’

सावकार बहुत खुश हुवा और बोला ‘गिर जा भाई गिर जा!’ तेरी ही तो राह देख रहा हु! सावकार ख़ुशी से चिल्लाया.

उसी के साथ पत्थरों की बरसात होने लगी. सावकार घबरा गया और घर के दरवाजे की तरफ भागने लगा. लेकिन वह भाग भी नहीं सकता था उसको एसा लगता मानो उसके पैर जमीन के अंदर चिपक गए हो.

तभी आवाज आई, ‘लालची सावकार, भागता कहा है? उस गरीब ब्राम्हण से घर छिनकर तू अमीर बनने की सोच रखता है. मै सामने के पीपल के पेड़ का भुत हु. तेरा घर मुझे पसंद आया इसीलिए इसमें रहता हु. अगर तूने उस ब्राम्हण को इस घर मे नहीं रहने दिया तो मै सांप और बिच्छू की बरसात तुझ पर कर दूंगा. जा भाग और यह घर उस गरीब ब्राम्हण को दे.’

भुत का बोलना सुनकर सावकार वहा से भाग खड़ा हुवा.Bhoot Bramhan Aur Savkari Ki Majedar Kahani

दुसरे दिन सावकार ने उसका नया घर ब्राम्हण को दे दिया इतना ही नहीं घर भी उसके नाम पर कर दिया. सावकार के घर मे ब्राम्हण परिवार के आते ही पीपल के पेड़ ने उस घर को छोड़ दिया और फिर से अपनी जगह पीपल के पेड़ पर चला गया. इसप्रकार इस Kahani का अंत होता है.

सिख:- इस Kahani से सिख मिलती है की लालच बुरी बात है. सावकार के पास सब-कुछ था, वह बहुत अमीर था फिर भी और ज्यादा अमीर बनने की चाह रखता था जो उसके लिए आफत बन गयी. हमेशा ध्यान रहे ज्यादा लालच कभी न करे. लालच बुरी बला है इससे दूर ही रहना चाहिए.

अगर आपको Hindi Stories की यह Kahani पसंद आयी हो तो इसे सोशल मीडिया मे जरुर शेयर करे जिससे हिंदी कहानिया पढ़ने के शौकीन पढ़ सके. इस प्रकार की अच्छी-अच्छी कहानिया पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग को Subscribe करे और सीधे नए पोस्ट की जानकारी पाए. कृपया ईमेल वेरिफिकेशन लिंक जो आपके ईमेल पर आएगी उससे जरुर वेरीफाई करे.

____________________

अमेजिंग ! धन्यवाद आपको यह पोस्ट पसंद आयी!

HindiMePadhe.com वेबसाइट को इतना प्यार देने के लिए आपका दिल से शुक्रिया. एसीही Blogging, Education, EPFO, Hindi Story और Banking सेक्टर से जुडी हर नयी पोस्ट के अपडेट आपके ईमेल इनबॉक्स मे पाने के लिए ब्लॉग को यहा से फ्री मे सब्सक्राइब करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *